कल रात भर …………………‘बेपरवाह’

30 03 2015

मैं रात भर जन्नत में था

थी तलब जिनसे रूबरू कि,

थी आरजू जिनसे गुप्तगू कि,

वो चाँद कल मेरे आँगन में था |

मैं रात भर जन्नत में था |

मासूम चेहरा, अधरों पर मुस्कान लिए,

झील सी आँखें, सुर्ख होंठ,

घनेरी जुल्फ, यौवन में उफ़ान लिए ,

वो प्रतिरूप अप्सरा कि,

नूर इस धरा की |

वो खनकती आवाज उसकी,

मेरे अंतर्मन को छेड़ती,

कभी इठलाती, कभी इतराती,

मुझे गुदगुदाती रही |

मैं स्वप्नों के आलिंगन में,

उसके मादक हुस्न के बंधन का

रोम-रोम में एहसास किया ,

‘बेपरवाह’ कल रात भर प्यार किया |

सच, उसे पाना एक मन्नत सा था |

मैं कल रात भर ………………….

© अविनाश ‘बेपरवाह’

Advertisements

Actions

Information

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s




%d bloggers like this: